Light | Concave Mirror | Convex Mirror kya hai Puri Jankari Hindi Me

5

Light Concave Mirror Convex Mirror : दोस्तों आज हम आपके प्रतियोगी परीक्षा को और सफल बनाने के लिए Light Concave Mirror Convex Mirror kya hai. इससे सम्बंधित Notes तथा Question PDF में लेकर आए है | जो आपके 10+2 तथा Other Competitive Exam के लिए बहुत ही महतापूर्ण है, भौतिक विज्ञान क्या है, भौतिक विज्ञान Notes Entrance Exam की तैयारी करने वाले Students को बहुत ही जरूरत पढ़ती है| तो आज हम इसलिए Physics Notes उप्लाब्थ करा रहे है |

ध्यान दे : इस Notes को पढने के बाद निचे से PDF जरुर download करे, तथा अपने दोस्तों के साथ जरुर Share करे.

क्या आप Online Test देना चाहते है ? Online Test जरुर दें :

Light Concave Mirror Convex Mirror

प्रकाश(Light):

Light Concave Mirror Convex Mirror: प्रकाश एक प्रकार की ऊर्जा है, प्रकाश के कारण हमें वस्तुए दिखाई देती हैं प्रकाश निर्वात में भी गमन कर सकता है निर्वात में प्रकाश की चाल 3×10मी/से होती है| जल में प्रकाश की चाल 2.25×10मी/से होती है| प्रकाश तरंगे अनुप्रस्थ होती है|


प्रदीप्त वस्तुएं(Illuminated Bodies):

जो वस्तुएं स्वयं प्रकाश उत्पन्न करती हैं प्रदीप्त वस्तुए कहलाती हैं| जैसे- सूर्य, तारे, जलता हुआ कोयला, जलती हुई मोमबत्ती आदि| प्रदीप्त वस्तु के प्रत्येक बिंदु से अनन्त किरणें(किरण पुंज) निकलती हैं|
अदिप्त वस्तुएं: जो वस्तुएं अंधेरे में दिखाई नहीं देती आदिप्त वस्तुएं कहलाती हैं| जैसे- मेज, कुर्सी, आदि|

Light Concave Mirror Convex Mirror

Light से अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न:

  • तारों का टिमटिमाना, जल से भरे पात्र में पड़े सिक्के का उठा नजर आना- अपवर्तन के कारण
  • मृगमरीचिका का बनना- पूर्ण आंतरिक परावर्तन के कारण
  • जल का तालाब कम गहरा दिखाई देना- अपवर्तन के कारण
  • हीरे का चमकना- पूर्ण आंतरिक परावर्तन के कारण
  • प्रकाश तंतु का कार्य करना- पूर्ण आंतरिक परावर्तन के कारण
  • आकाश का नीला दिखना- प्रकीर्णन के कारण
  • सुबह शाम को सूर्य का लाल दिखना- प्रकीर्णन के कारण
  • पानी के बुलबुले के रंगीन दिखना- व्यतिकरण के कारण
  • पानी के सतह पर पड़े मिट्टी का तेल का रंगीन दिखना- व्यतिकरण के कारण
  • C.D का रंगीन दिखना- विवर्तन के कारण
  • साबुन के पतले झाग में चमकदार रंगों का दिखना- व्यतिकरण और बाहुलीत परावर्तनके कारण
  • खतरे के चिन्ह का लाल होना- क्योंकि लाल रंग का प्रकीर्णन सबसे कम होता है|
  • कांच में आई दरारें चमकदार दिखता है- पूर्ण आंतरिक परावर्तन के कारण
  • जल में रखी हुई परखनली चमकीली दिखाई देना- पूर्ण आंतरिक परावर्तन के कारण
  • कालीख से पोता गोला जल में चमकना- पूर्ण आंतरिक परावर्तन के कारण


प्रकाश का प्रकीर्णन(scattering of light):

जब प्रकाश वायु से गुजरता है,तो उसमें विद्यमान धूल आदि के कणों से टकराकर प्रकाश का कुछ भाग सभी दिशाओं में फैल जाता है|
प्रकाश के सभी दिशाओं में फैल जाने की प्रक्रिया को प्रकाश का प्रकीर्णन करते हैं|
लाल रंग के प्रकाश का प्रकीर्णन सबसे कम होता है|
बैंगनी रंग के प्रकाश का प्रकीर्णन सबसे अधिक होता है|
बैगनी तथा नीले प्रकाश का प्रकीर्णन सबसे अधिक होने के कारण ही आकाश नीला दिखाई देता है|

वास्तविक प्रतिबिम्ब(Real Image):

जब परावर्तन के बाद प्रकाश की किरणे वास्तव में मिलती है,तो वस्तविक प्रतिबिम्ब कहलाती है|
वास्तविक प्रतिबिंब को पर्दे पर लिया जा सकता है|
वास्तविक प्रतिबिंब सदैव उल्टा बनता है|
वास्तविक प्रतिबिंब को पर्दे पर नहीं लिया जा सकता|

आभासी प्रतिबिंब(Virtual Image):

आभासी प्रतिबिंब को काल्पनिक प्रतिबिंब कहा जाता है|
आभासी प्रतिबिंब सदैव सीधा होता है|
आभासी प्रतिबिंब को पर्दे पर नहीं लिया जा सकता है|
समतल दर्पण से बना प्रतिबिंब सदैव आभासी होता है|

समतल दर्पण:
  1. किसी व्यक्ति को अपना पूरा प्रतिबिंब देखने के लिए दर्पण की लंबाई व्यक्ति की ऊंचाई से आधी होनी चाहिए|
  2. समतल दर्पण में प्रतिबिंब का आकार वस्तु के आकार के बराबर होता है|
  3. समतल दर्पण की फोकस दूरी अनंत तथा क्षमता शून्य होती है|
  4. समतल दर्पण का उपयोग श्रृंगार दर्पण के रूप में, बहुदर्शी तथा पारदर्शी में किया जाता है|
  5. समतल दर्पण से बनने वाला प्रतिबिंब वस्तु के बराबर, आभासी एवं पार्श्वउल्टा
उत्तल दर्पण:
  • उत्तल दर्पण में परावर्तन उभरे हुए तल से होता है|
  • उत्तल दर्पण से बनने वाला प्रतिबिंब सदैव वस्तु से छोटा, आभासी एवं सीधा होता है|
  • प्रतिबिंब सदैव दर्पण के पीछे ध्रुव तथा फोकस के मध्य स्थित होता है|
  • उत्तल दर्पण का उपयोग वाहनों में साइड मिरर एवं सड़क में लगे प्रवर्तक लाइनों में होता है|
  • उत्तल दर्पण के द्वारा काफी बड़े क्षेत्र की वस्तुओं का प्रतिबिंब एक छोटे से क्षेत्र में बन जाता है|
  1. जरुर देखे : Bharat ki Karyapalika Hindi me
  2. जरुर देखे : Madhyakalin Bharatiya Itihas Mugalkal

अवतल दर्पण(Concave Mirror):

  • अवतल दर्पण में परावर्तन दबी हुई ओर से होता है|
  • अवतल दर्पण से बनने वाला प्रतिबिंब आभासी एवं सीधा होता है|
  • अवतल दर्पण से आभासी प्रतिबिंब तभी बनता है जब वस्तु की स्थिति फोकस तथा ध्रुव के मध्य होती है|
  • अवतल दर्पण से बना प्रतिबिंब वस्तु से बड़ा, आभासी एवं सीधा होता है| इसमें प्रतिबिंब दर्पण के पीछे बनता है|
  • अवतल दर्पण का उपयोग सोलर कुकर, गाड़ी की हेडलाइट, सर्च लाइट एवंदाढ़ी बनाने में करते है|
  • नाक, कान, गले आदि की जांच हेतु डॉक्टर अवतल दर्पण का प्रयोग करते है|


परीक्षा में पूछे गए प्रश्न:
  1. अवतल दर्पण का उपयोग-1. दाढ़ी बनाने में गाड़ी की हेडलाइट और सर्च लाइफ में, सोलर कुकर में, दंत चिकित्सक में, आंख कान गला के चिकित्सक में
  2. उतल दर्पण के उपयोग हैं- ड्राइवर के बगल में, स्ट्रीट लाइट में|
  3. समतल दर्पण के उपयोग हैं- श्रृंगार दर्पण के रूप में, बहुदर्शी तथा परिदर्शी में
  4. उत्तल लेंस के उपयोग हैं- कैमरा सूक्ष्मदर्शी दूरदर्शी फिल्म प्रोजेक्टर तथा दूर दृष्टि दोष वाले व्यक्ति के चश्मे में|
  5. अवतल लेंस के उपयोग हैं- गैलीलियो दूरदर्शी के नेत्रिका तथा निकट दृष्टि दोष(मायोपिया) वाले व्यक्ति के चश्मे में
  6. कांच में किस रंग के प्रकाश की गति सबसे कम होती हैं- बैंगनी रंग
  7. धूप के छाते में ऊपर की सतह किस रंग की होनी चाहिए- सफेद
  8. कांच में किस रंग के प्रकाश की गति सबसे कम होती है- बैंगनी रंग
  9. इंद्रधनुष के मध्य में कौन सा रंग दिखाई देता है- हरा रंग
  10. दोपहर 12:00 बजे दिशा में इंद्रधनुष दिखाई देगा- नहीं दिखेगा
  11. प्रकाश तरंग होती हैं- अनुप्रस्थ तरंग
  12. प्राथमिक रंग कौन-कौन से है- लाल, हरा एवं नीला
  13. प्रकाश का रंग निर्भर करता है- तरंगधैर्य पर
  14. सबसे अधिक तरंग धैर्य होती है- लाल रंग की
  15. हरे पत्तों वाला पौधा लाल प्रकाश में देखने पर दिखाई देता है- काला
  16. यदि किसी पीली वस्तु को लाल प्रकाश में देखा जाए तो वह दिखाई देगी- काली
  17. इंद्रधनुष में रंगों की संख्या है- सात
  18. इंद्रधनुष में किनारों पर रंग होते हैं- बैगनी, लाल
  19. मानव आंख की रेटिना पर प्रतिबिंब बनता है- वास्तविक तथा उल्टा
  20. आंखों में बाहर के पढ़ने वाले प्रकाश को नियंत्रित करता है- आइरिस
  21. मनुष्य की आंख में किसी वस्तु का प्रतिबिंब जिस भाग पर बनता है वह है- दृष्टिपटल(रेटिना)
  22. लेंस की क्षमता का मात्रक डायोप्टर होता है|
  23. धूप के चश्मे की क्षमता शून्य डायोप्टर होती है|
  24. उत्तल लेंस की क्षमता धनात्मक जबकि अवतल लेंस की क्षमता ऋणात्मक होती है|

Exam Points

  • प्रकाश संश्लेषण की क्रिया में प्रकाश ऊर्जा किस रूप में परिवर्तित होती है? – रासायनिक ऊर्जा में
  • विसर्जन लैम्पों में कौन-सी गैस भरी जाती है? – नियान
  • प्रकाश का वेग सर्वप्रथम किसने मापा? – रोमर ने
  • तड़ित की चमक उसकी गर्जन से पूर्व ही सुनाई दे जाती है | क्यों? – क्योंकि प्रकाश की गति, ध्वनी की गति की अपेक्षा बहुत तीव्र होती है |
  • हीरा के लिए क्रांतिक कोण का मान कितना होता है? – 24 डिग्री
भौतिक विज्ञान प्रश्नोत्तरी PDF 

ध्यान दे Students : निचे दिए गए Facebook, What’s app और Twitter के बटन के माध्यम से आप इसे अपने दोस्तों को Share कर सकते है, एक Share से किसी विद्यार्थी को अच्छी जानकारी पहुंचाए |


Dissimilar : www.sarkarijobhelp.com केवल Education Purpose यानि शिक्षा के छेत्र के लिए बनाई गई Website है, और इस पर उप्लाब्थ पुस्तक/Study Materials/Notes/PDF/Books के मालिक हम नहीं है, न ही बनाया गया है, और न ही Scan किया गया है| हम शिर्फ़ Internet पर पहले से उप्लाब्थ Link और Study Materials को प्रदान करते है, यदि किसी भी तरह से हम कानून का उल्घंधन करते है, या फिर कोई भी समस्या हो, तो कृपया हमें Mail करे sarkarijobhelp1@gmail.com

5 Comments
  1. Girish verma says

    please uplod notes for cg vyapam and cgpsc

    1. radhe@5290 says

      As Soon As Update…for CGPSC…Visit Website Continue

  2. Abhinandan Singh says

    Sir cumputer based questions upload kar digiye

    1. Sarkari Job Help says

      Okay Abhinandan, I will try to upload computer questions..soon

  3. Yasir Ahamad says

    Sir polytechnic group k ka model aur solved paper upload kar.
    Aur ye website amazing hai.
    Thank You for this great work.

Leave A Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: कृपया उचित स्थान पर Click करे !!