IAS PCS

UPSC Environment (पर्यावरण और पारिस्थितिकी) Subject ki taiyari kaise kare

UPSC Environment Subject ki taiyari kaise kare : आज की इस लेख में हम आपको बताएगे, UPSC, IAS परीक्षा के लिए पर्यावरण और पारिस्थितिकी विषय की तैयारी कैसे करे !  कैसे बनाए UPSC Pre एग्जाम की रणनीति, आदि सभी जानकारी निचे दिए गए लेख के माध्यम से पढ़े |

UPSC PRE पेपर में पर्यावरण का महत्व कुछ वर्षों से बहुत बढ़ गया है लगभग 15+ प्रश्न अवश्य ही पूछ लिए जाते हैं, आप समझ सकते हैं कि छोटा सा विषय है और इतने प्रश्न बनना मतलब ये विषय पेपर पास करने की चाबी समझिये । बहुत आसान विषय है लेकिन प्रश्न आसान नहीं बनते इसलिए विस्तृत रूप से पढ़ना होगा और वे सभी बिंदु ध्यान में रखने होंगे जहां से सबसे ज्यादा प्रश्न बनते हैं।

डाउनलोड करे :-



UPSC Environment Subject ki taiyari

पर्यावरण और पारिस्थितिकी एक ऐसा विषय बन गया है, जिससे अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं में  यहाँ से प्रश्न पूछे जाते है | इसलिए आप सभी विद्यार्थी ‘UPSC Environment Subject ki taiyari kaise kare’. इस विषय से सम्बंधित 5 भागों को अवश्य निचे दिए गए लेख के माध्यम से पढ़े |

UPSC Environment Subject ki taiyari kaise kare in hindi

1.  पर्यावरण पारिस्थितिकी (यहाँ से प्रश्न तो बनते हैं लेकिन कम बनते हैं) इस भाग के महत्वपूर्ण बिंदु निम्न प्रकार हैं –
टर्मिनोलॉजी – निचे,की-स्टोन प्रजाति,खाद्य जाल,सुपोषण,प्लास्टिक कल्चर,बायो प्रोस्पेक्टिंग,कार्बन फुटप्रिंट,शैवाल प्रस्फुटन,बायो पायरेसी इत्यादि।

  • पारितंत्र के प्रकार (महत्वपूर्ण है विशेष रूप से – प्रवाल,सागरीय,ज्वारनदमुख,आर्द्रभूमि एवं मैंग्रोव) इस बिंदु में इन पारितंत्र की जलवायु विशेषताओं,वनस्पति एवं जीव जंतु (जो विशेष रूप से यही पाए जाते हैं इत्यादि पर ध्यान देना है ।
  • पारिस्थितिकी पिरामिड – जीव भार,जीव संख्या एवं ऊर्जा पिरामिड में कौन सीधा कौन उल्टा बनता है थोड़ा देख लीजिये।
  • जैव भू रासायनिक चक्र(महत्वपूर्ण) – विशेषकर नाइट्रोजन,फास्फोरस का ध्यान रखिये बाकि भी पढ़ जरूर लीजिये ।
  • अनुक्रमण,अनुकूलन एवं जैविक अन्तः क्रियाएं भी देख लीजिये कभी कभी प्रश्न बन जाता है।

2. पर्यावरणीय समस्याएं एवं मुद्दे (यहाँ से प्रश्न बनता है ) – इस भाग में प्रदूषक,प्रदुषण,भूमंडलीय तापन,अम्ल वर्षा,ओज़ोन अपक्षय,प्रवाल विरंजन,जंगल की आग इत्यादि बिंदु शामिल हैं (कारण,प्रक्रिया एवं प्रभाव विशेष रूप से ध्यान देना है)



3. जैव विविधता (सबसे महत्वपूर्ण बिंदु) : इस भाग में

  • संरक्षण की विधियां (स्वस्थाने एवं परस्थाने दोनों को अंतर के साथ),
  • रेड डाटा लिस्ट (विलुप्तप्राय,संकटग्रस्त प्रजातियों के नाम लिख लीजिये विशेषकर भारत में पायी जाने वाली )
  • भारत में जैव विविधता- इस बिंदु में भारत के विभिन्न भागों में पाए जाने वाले कुछ विशेष जीव और उनका निवास स्थल पर ध्यान देना है ।
  • भारत में जैव विविधता संरक्षण – इस भाग में राष्ट्रीय उद्यान,जैव आरक्षित क्षेत्र,बाघ आरक्षित क्षेत्र,हॉट स्पॉट इत्यादि की नाम और विशेषताएं (सम्बंधित राज्य,विशेष जीव यदि किसी के लिए प्रसिद्द है, सबसे बड़ा,छोटा ऊँचा इत्यादि). विभिन्न जीवों के संरक्षण के लिए शुरू किये गए कार्यक्रम ।

4. पर्यावरण से जुडी संस्थाएं एवं अभिसमय (निश्चित रूप से प्रश्न मिलेंगे) –

  • इस भाग में UNEP,IUCN,UNESCO ,CBD ,UNFCC ,CITES ,WWF ,CMS क्योटो प्रोटोकॉल,पृथ्वी शिखर सम्मलेन इत्यादि एवं पर्यावरणीय समस्याओं तथा जैव विविधता संरक्षण के लिए अभिसमय – स्टॉक होम सम्मेलन, कर्टज़ोना सम्मेलन,कोपेनहेगन,मॉन्ट्रियल, विएना,बासेल, हेलसिंकी इत्यादि ।

5. समसामयिकी (सबसे ज्यादा ध्यान देने योग्य) –

  • इस भाग में पिछले 2 वर्षों में हुए सभी अभिसमय, नयी खोजी गयी प्रजातियां,रेड डाटा सूचि के बदलाव,पर्यावरणीय समस्याओं से जुडी रिपोर्ट,नवीनतम टर्मिनोलॉजी,पर्यावरणीय समस्याओं से जुडी केस स्टडी(नवीनतम) एवं अन्य सभी महत्वपूर्ण एवं चर्चित ख़बरें.



Best Book For UPSC Environment Subject :-

  • एनसीईआरटी भूगोल – कक्षा छठी से दसवीं
  • एनसीईआरटी विज्ञान – कक्षा सातवीं से दसवीं तक
  • एनसीईआरटी इकोनॉमी – कक्षा ग्यारहवीं
  • एनसीईआरटी जीवविज्ञान – कक्षा बारहवीं
  • एनसीईआरटी रसायन विज्ञान – कक्षा बारहवीं
  • अख़बारों से छपे पर्यावरण विभाग से संबंधित समाचार और संपादकीय।
  • पर्यावरण मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट से नियमित अपडेट
  • इंडिया ईयर बुक (India Year Book)
  • भारत का आर्थिक सर्वेक्षण (Economic Survey of India)
  • 12वीं पंचवर्षीय योजना (वॉल्यूम – 1) से अध्याय संख्या 4, 5 और 7 का अध्ययन।
  • विज्ञान रिपोर्टर (Science Reporter) और डाउन टू अर्थ (Down To Earth) इत्यादि।
  • पी.डी. शर्मा द्वारा लिखी गये पारिस्थितिकी और पर्यावरण की पुस्तक (Ecology and Environment by P.D. Sharma)।
Note : आशा करते है की आप सभी विद्यार्थियों को UPSC Environment Subject ki taiyari  करने में काफी मदद मिली होगी |




इसे भी पढ़े :-

About the author

Sarkari Job Help

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

error: कृपया उचित स्थान पर Click करे !!